breaking news New पुलवामा अटैक: वीके सिंह बोले -मेरा खून खौल रहा है खून की हर बूंद का बदला लेंगे राजस्थान : 10 % सवर्ण आरक्षण लागू करेंगे गहलोत प्रियंका गांधी वाड्रा को कांग्रेस की महासचिव बनाया गया पुलवामा में देश पर अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला सोनिया गांधी अब नहीं लड़ेगी चुनाव ,प्रियंका ही उतरेगी रायबरेली से दुनिया में नही रहे अटल बिहारी वाजपेयी: एम्स में ली आखिरी सांस जयपुर एयरपोर्ट पर पीएम मोदी का राज्यपाल कल्याण सिंह व सीएम राजे ने राजस्थानी अंदाज में किया स्वागत पीएम नरेन्द्र मोदी पहुॅचे जयपुर एयरपोर्ट महाराष्ट्र में MLC चुनाव : विधान परिषद में सबसे बड़ी पार्टी बनने की राह पर बीजेपी अमित शाह रविवार को ओडिशा के दौरे पर जाएंगे, पार्टी नेताओं के साथ करेंगे बैठक

पाकिस्तान: 5000 लोगों ने घोषित की विदेशी संपत्ति, 80 अरब रुपये की हुई कर वसूली

पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई. पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई. पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई. पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई. पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई. पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई. पाकिस्तान को कर माफी योजना से कर के रूप में भारी-भरकम रकम मिली है. यह योजना पाकिस्तानी नागरिकों के विदेश में किये गये निवेश या संपत्तियों को वैध करने और रिटर्न में उनकी घोषणा के लिये शुरू की गई.